सोमवार, 28 सितंबर 2009

purshon ke liye kaanun kyon nahi ?

कुछ दिन पहले एक समाचार पढ़ा ....पति का बदला लेने के लिए सिपाही पर पत्नी ने लगाया दुराचार का आरोप ....यह एक घटना नहीं है . , ऐसे कई मामले सामने आ रहे है जब महिला द्वारा यौन उत्पीडन का या बलात्कार का आरोप बाद में झूठा साबित हुआ .कई विवाहित लड़कियां  ससुराल छोड़ के मायेके वापस आ जाती हैं , और पति /सास -ससुर पे घरेलू हिंसा का आरोप लगाती है. जबकि वो ससुराल की मर्यादा में नहीं रहना चाहती . कई बार मुझे ऐसा लगता है कि आजकल पुरुष भी उतना ही पीड़ित है जितना महिला .....फर्क सिर्फ इतना है कि कोई भी महिला पुरुष /पति पर अत्याचार /अनाचार का केस दायर कर सकती है .जबकि पुरुषों के लिए ऐसा कोई कानून नहीं है .मैंने परिवार परामर्श केंद्र में ऐसे ही अनेक केस देखे हैं .. ये भी एक सच्चाई है कि आज न जाने कितनी युवतियां नाम ,दाम और काम के लिए स्वयं पुरुष के सामने समर्पित होने में कोई संकोच नहीं करती .सच ओत ये है कि ऐसी महिलाएं पुरुषों का मानसिक बलात्कार करती है ... विश्वामित्र को रिझाने के लिए मेनका ने भी यही किया था ,शत्रु - राजा को परास्त करने  के लिए चाणक्य  रूपवती विषकन्या को भेजता  था  आज युवतियां स्वयं ये कर रही है . किसी भी  क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने का शॉर्ट कट रास्ता है. तो फिर यौन उत्पीडन का केस केवल पुरुष पर ही क्यों ?....जबकि गुनाहगार दोनों होते है..अमर मणि ,गुड्डू पंडित ,सच्चिदानन्द साक्षी महराज ........ऐसे जाने कितने उदहारण है. कितने ऐसे पति है जो हर संभव परिवार में तालमेल बिठाने कि कोशिश करते है और पत्नी सास -ससुर से अलग रहने कि जिद. .तो पुरुषों को भी ऐसी महियाओं के विरूद्व ऍफ़ .आर . आइ. दर्ज करने का अधिकार मिलना चाहिए. जब समानता की आवाज उठती है तो कानून में समानता क्यों नहीं ??????

5 टिप्‍पणियां:

  1. yeh ek esi gambhir bahas hai ki jis par saalon se charcha ho rahi thi.is par jab -jab purson ne aawaz uthai to aaj tak virodh hi saamne aaya.aaj mahilaon ke paksh me andha kanoon ban hua hai aur is kaanoon ka orton ne hatiyaar ke roop men istemaal kiya hua hai - jis karan lakho pariwar parbhavit ho rahen hain.
    anupama ji aap ne ek mahila hote huye jo baat rakhim hai uske doorgami parinaam jaroor honge.esa men samjhta hoon.bas jaroorat hai ki aap jesi mahilaon ko aage aana hoga...aap ko bdhai--himmat ke saath likhne ke liy.

    उत्तर देंहटाएं
  2. Dear Anupama Ji,
    Namaskar
    Aapne ek bahut hi jwalant samasya ko uthaya hai , mein khud bhi bahut samay se is baare mein vichar kar raha tha ke purushon ke liye is tarah ka koi kanun kyon nahin hai jabke aaj purush bhi utna hi peedit hai jitna ke mahilayein .
    mere ghar ke paas hi char aise cases court mein chal rahe hein jismein ghar ki bahu ne 'DAHEJ UTPEEDIN' ka case darj karwaya hai jo ke puri tarah niradhar hai.
    khair , aapko bahut bahut dhanyawad jo aapne aisi samasya ko ek mahila hone ke baawajood uthaya.
    ek baar phir dhanyawad

    उत्तर देंहटाएं
  3. निरूपमा जी - आपने महिला होते हुए भी समाज की क्रूर सच्चाई को उजागर किया है - आप बधाई के पात्र हैं। यही आजकल हो भी रहा है। त्रस्त होकर देश के कई शहरों में "पत्नी प्रताड़ित पुरूषों" ने संघ भी बना लिया है। जब आप ये लिखतीं हैं कि - "ये भी एक सच्चाई है कि आज न जाने कितनी युवतियां नाम ,दाम और काम के लिए स्वयं पुरुष के सामने समर्पित होने में कोई संकोच नहीं करती .सच ओत ये है कि ऐसी महिलाएं पुरुषों का मानसिक बलात्कार करती है ..." - यह एक अलग सच्चाई है। मैंने तो देखा है कि शादी भी अब दन लोलुपता के चक्कर में किये जा रहे हैं - फिर दहेज विरोधी कानून का डर दिखा कर पति एवं अन्य परिजनों को खून के आंसू रोने के लिए विवश भी किया जा रहा है। ऐसी परिस्थिति में आपका ऐसा लेख लिखना महत्वपूर्ण है। साधुवाद। स्नेह बनाये रखें।

    www.manoramsuman.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  4. aapki baat se main bilkul sahamat hu, main koi suni sunai baat nahi bolunga ye kissa mere ghar ka hi hain. mere bade bhai ki saadi 28 may 2006 ko hui thi. saadhi ke baad meri babhi 3 dino tak mere ghar par rahi phir wo apne maike chali gai. 6 mohino tak mere bade bhai ke saath unka phone par baat chalta raha aur wo dono apne ghar main bina bataye apas main milte bhi rahe. ye baat babhi ke pitaji ko pasand nahi aaye. 15 Dec 2006 ko humare ghar par court ka notice aaya ki humne unke ghar walo se dahej manga hain. aur notice par mera pita, mata, bade bhai, unke husband aur Bahen ka naam aaya. meri bahan jo ki saadi ke dusere din hi apne sasural vapas chali gai thi. karib 18 mahino tak case chalta raha aur faisala humhare pach main hua ki hum babhi ko apne ghar main laa sakate hain. iske baad unhone ye case ko mahila thane main daal diya jiske karan mere ghar walo ko ek mahine tak jail main jaana pada. mere pita ka umar 68 years aur mata ka 61 years hain. ek mahine ke baad jab wo bahar aaye to meri maata ka tabiyat bahut bigad gaya aur pichale saal 16 oct 2008 ko unka dehant ho gaya. aur mere pita ki tabiyat abhi bahut kharb chal rahi hain. in sab pareshaniyo se chutkara paane ke liye humne apne vakeel ke jariye unke vakeel se baat ki to hume pata chala ki vo 1 lacs rupaye humse lena chahate hain. aur unhone ye waada kiya ki vo case vapas le lenge. is saal 18 March ko humne unko ye paise diye aur mere bahi ka unke saath talak ho gaya par unhone dahej ka case vapas nahi liya. aur ab tak ye case chal raha hain.

    aap sab se ye request karta huin ki agar aap ke pass koi sujhao hain to plz meri madad kare.

    Rajan

    उत्तर देंहटाएं
  5. Nirupama Ji,
    Aapke lekh mein sachaayi hai, hamare desh mein kanoon ki kaise dhajiyaan udaayi jaati hain. Mahila ho ya purush dono hi kahin na kahin pidit hain. kahin per mahilyaein pidit aur kahin per purush, yeh to humko pehle apna swarth chodhna hoga aur dusre per huqam chale ka aur satta paane ke liye hum karte hain, isi karan yeh sab gadbadiyaan hoti hain. Kaha jata hai mahilyaein har shetr mein aage hain to phir logon ko satane mein aur apradh karne mein kyon pichhe rahe. khair yeh bahas aur lambi ho jayegi. Per aapne jis imaandari se is lekh ko likha uskey liye aapko dhanyavaad deta hun.....Surinder

    उत्तर देंहटाएं